बीएससी एवं एमएससी कोर्स

बीएससी एवं एमएससी कोर्स

बीएससी एवं एमएससी कोर्स

बीएससी एवं एमएससी कोर्सबीएससी ( बैचलर ऑफ साइंस ) एक विज्ञान स्नातक की डिग्री है | बीएससी कोर्स में प्रवेश के लिए आपको इंटरमीडिएट परीक्षा में भौतिकी, रसायन,गणित,अंग्रेजी, जीव विज्ञान विषय के साथ उत्तीर्ण होना अनिवार्य है |  इंटरमीडिएट परीक्षा में कम-से-कम 55% अंक होने चाहिए |  इसमें आपका चयन प्रवेश परीक्षा के आधार पर होता है जिसमे आपसे भौतिकी, रसायन,गणित, जीव-विज्ञान एवं सामान्य ज्ञान से संबंधित प्रश्न पूछे जाते हैं  | बीएससी मात्र फिजिक्स, केमिस्ट्री, मैथ्स, बायोलॉजी तक सीमित नहीं है | इसमें अनेक उपयोगी विषय हैं जैसे :-  कम्प्यूटर साइंस/ माइक्रोबायोलॉजी/ एनिमेशन/ इलेक्ट्रॉनिक्स/ न्यूट्रिशन/ बायोइंफॉर्मेटिक्स/ बायोकेमिस्ट्री/ मल्टीमीडिया/ इंफॉर्मेशन टेक्नोलॉजी/ एविएशन/ एग्रीकल्चर/ साइकोलॉजी/ जेनेटिक्स/ फॉरेन्सिक साइंस/ फैशन टेक्नोलॉजी/ नर्सिंग/ फूड टेक्नोलॉजी/ फॉरेस्ट्री/ एक्वाकल्चर/ फिजियोथैरेपी आदि | किसी विषय में बीएससी करने के बाद आपको उससे संबंध‍ित क्षेत्र में करियर के द्वार खुल जाते हैं |

बीएससी ग्रेजुएट्स को इन सेक्टर्स में अच्छी जॉब मिल सकती है— 
– हेल्थ केयर सर्विस प्रोवाइडर्स
– स्पेस रिसर्च इंस्टीट्यूट्स
– एग्रीकल्चर इंडस्ट्री
– टेस्टिंग लैबोरेट्रीज
– हॉस्पिटल
– फूड इंडस्ट्री
– केमिकल इंडस्ट्री
– फार्मास्युटिकल्स एंड बायोटेक्नोलॉजी इंडस्ट्री
– ऑइल इंडस्ट्री
– रिसर्च फर्म्स
– इंडस्ट्रियल लैबोरेट्रीज

———————————————————————————————

एमएससी ( मास्टर ऑफ़ साइंस )
एमएससी एक पोस्ट ग्रेजुएशन डिग्री है | एमएससी का पूरा नाम मास्टर ऑफ़ साइंस है जिसके तहत साइंस से सम्बंधित अनेक विषयों को पढाया जाता है | आजकल लगभग सभी क्षात्र साइंस से पढाई करते हैं क्योकि साइंस स्ट्रीम की पढाई का काफी चलन हो गया है इसमें क्षात्रों के लिए अनेक तरह के करियर विकल्प होते हैं जैसे :- इंजीनियरिंग, आर्किटेक्चर, टेक्नोलॉजी, सिविल एविएशन, मर्चेट नेवी, कम्प्यूटर, मेडिसिन, फार्मेसी, बायोटेक्नोलॉजी आदि क्षेत्रो (filed) में आपको आसानी से जॉब मिल जाती है | यह कोर्स  कॉलेजों में बीएससी पास होने के बाद दिया जाता है |

  • एम.एस.सी से संबधित विभिन्न कोर्स 
    मास्टर ऑफ़ साइंस (SC) (ऑपरेशनल रिसर्च)
    मास्टर ऑफ़ साइंस (SC) (फिजिक्स)
    मास्टर ऑफ़ साइंस (SC) (मैथमेटिक्स)
    मास्टर ऑफ़ साइंस (SC) (माइक्रोबायोलॉजी)
    मास्टर ऑफ़ साइंस (SC) (बायोकेमिस्ट्री)
    मास्टर ऑफ़ साइंस (SC) (जूलॉजी)
    मास्टर ऑफ़ साइंस (SC) (इनफार्मेशन टेक्नोलॉजी)
    मास्टर ऑफ़ साइंस (SC) (एनीमेशन)
    मास्टर ऑफ़ साइंस (SC) (एंथ्रोपोलॉजी)
    मास्टर ऑफ़ साइंस (SC) (बॉटनी)
    मास्टर ऑफ़ साइंस (SC) (कंप्यूटर साइंस)
    मास्टर ऑफ़ साइंस (SC) (इलेक्ट्रॉनिक साइंस)
    मास्टर ऑफ़ साइंस (SC) (जियोग्राफी)
    मास्टर ऑफ़ साइंस (SC) (जियोलॉजी)
    मास्टर ऑफ़ साइंस (SC) (लाइफ साइंस)

एमएससी करने के फायदे |
एमएससी करने के बाद छात्रों को अनेक फायदे  होते हैं. आजकल साइंस स्ट्रीम से पढ़ाई किये हुए छात्रों को अनेक फ़ील्ड्स  में जॉब आसानी से मिल जाती है | साइंस से ग्रैजुएशन (graduation) करने के बाद सभी छात्र पीजी (post-graduation) की तैयारी में लग जाते हैं  | साइंस से ग्रैजुएशन के बाद आप एमएससी कर सकते हैं क्योंकि इस क्षेत्र में जॉब के काफी  बेहतरीन मौके मिल सकते हैं |

    • एमएससी करने के बाद करियर की सम्भावनाये इन फील्ड में हो सकती है –
      मुसेम्स
      एजुकेशनल इंस्टिट्यूट्स
      गवर्नमेंट सोशल ओर्गानिसेशन्स
      कल्चरल एजेंसीज एंड डिपार्टमेंट्स
      टीवी/ प्रोडक्शन हाउसेस
      गवर्नमेंट इंस्टीट्यूशन्स
      यूनिवर्सिटीज
      फाइनेंसियल इंस्टीट्यूशन्स
      फार्मास्यूटिकल कम्पनीज
  • भारत में एमएससी करने  के लिए प्रमुख संस्थान 
    संबलपुर यूनिवर्सिटी, संबलपुर, उड़ीसा
    हेमवती नंदन बहुगुणा गढ़वाल यूनिवर्सिटी, गढ़वाल
    शिवजी यूनिवर्सिटी – (SUK), कोल्हापुर
    जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटी – (JNU), न्यू दिल्ली
    माउंट कार्मेल कॉलेज – (MCC), बैंगलोर
    देवी अहिल्या यूनिवर्सिटी, इंदौर
    अहमदाबाद यूनिवर्सिटी, अहमदाबाद
    श्री वेंकटेस्वर यूनिवर्सिटी – (SVU), तिरुपति
    यूनिवर्सिटी ऑफ़ राजस्थान, जयपुर
    सावित्रीबाई पहले पुणे यूनिवर्सिटी, पुणे

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *